थाना पनागर में दिनांक 14-11-21 की रात लगभग 8-30 बजे प्रदीप केारी उम्र 38 वर्ष निवासी आमनपुर मदनमहल ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी  कि पेपसिकों कम्पनी में सेल्समेन का काम करता है दिनांक 14-11-21 की शाम लगभग 6-30 बजे वह सिहोरा अपनी बहन के यहां से अपने परिवार के साथ मोटर सायकल से अपने घर मदनमहल जा रहा था  बम्हनौदा वायपास के 200 मीटर पहले मोटर सायकल खड़ी कर बाथरूम के लिये रूका तभी पीछे से एक्टिवा वाहन में अज्ञात 3 लड़के आये, तीनों में से एक लड़के ने चाकू निकालकर उसके पेट में अड़ा दिया एवं अन्य 2 लड़कों ने उसकी जेब में रखा पर्स तथा हाथ में रखा एमआई कम्पनी का मोबाइल छीन लिया तथा तेजी से तीनों भाग गये, उसके पर्स में ड्रायविंग लायसेंस, आरसी, एटीएम, आधारकार्ड, पेनकार्ड, तथा नगदी 4 हजार रूपये रखे थे। रिपोर्ट पर धारा 392 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
              *पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.)* द्वारा घटित हुई घटना को गम्भीरता से लेते हुये आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी हेतु आदेशित किये जाने पर अति. पुलिस अधीक्षक शहर उत्तर/यातायात श्री संजय कुमार अग्रवाल एवं  नगर पुलिस अधीक्षक अधारताल श्रीमति प्रियंका किरचाम के मार्गनिर्देशन में थाना प्रभारी पनागर श्री आर.के. सोनी के नेतृत्व में  टीम गठित कर लगायी गयी ।
                  गठित टीम को पतासाजी  के दौरान ज्ञात हुआ कि घटना दिनॉक को गुरूनानक वार्ड पनागर निवासी पप्पू उर्फ विकास कोरी अपने साथियों के साथ बम्हनौदा बाईपास की तरफ घूमता हुआ दिखा था, पप्पू उर्फ विकास कोरी  पिता चमन लाल कोरी उम्र 21 वर्ष को सरगर्मी से तलाश कर अभिरक्षा में लेते हुये सघन पूछताछ की गयी तो पप्पू कोरी ने अपने साथी अंकित उर्फ अनिकेत कोरी, राहुल वंशकार दोनों  निवासी आवास पडरिया तथा एक 17 वर्षिय किशोर  के साथ मिलकर लूट करना स्वीकार किया, अंकित उर्फ अनिकेत  कोरी पिता दुलीचंद कोरी उम्र 21 वर्ष एवं राहुल वंशकार पिता भीम वंशकार उम्र 19 वर्ष  तथा 17 वर्षिय किशोर को अभिरक्षा में लेते हुये पूछताछ करते हुये आरोपियेां की निशादेही पर छीने हुये रूपयों में से नगद 4 हजार रूपये एवं घटना में प्रयुक्त चायना चाकू, तथा एक्टीवा  एमपी 20 एसए 4180 एवं मोटर सायकिल एमपी 20 के एन 3093 जप्त करते हुये छीना हुआ मोबाईल, जो रास्ते में फेंक देना बता रहे हैं की बरामदगी के प्रयास जारी हीै।

उल्ल्खेनीय भूमिका -, नगदी रूपये छीनने वाले लुटोरों को पकडने में उप निरीक्षक डी.पी. भगत, बी.बी. सिंह, आरक्षक कुलदीप साहू, मोनू करारे, जय प्रकाश सिंह की सराहनीय भूमिका रही।