थाना कैंट में दिनंाक 8-1-22 की रात लगभग 10-30 बजे विजय गुप्ता उम्र 41 वर्ष निवासी जायसवाल पेट्रोल पम्प के पास सदर ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि जायसवाल पेट्रोल पम्प सदर में डीजल पेट्रोल डिलेवरी का काम करता है उसकी डियूटी प्रतिदिन 2 बजे से रात 10 बजे तक रहती है दिनंाक 6-1-22 की शाम लगभग 7-30 बजे वह डियूटी में था उसी समय एक ब्लू रेड कलर की एवेन्जर मोटर सायकल से एक व्यक्ति आया और पहले अपनी गाड़ी में पेट्रेाल डालने के लिये बोलने लगा, उसने थोड़ा रूकने के लिये कहा तो  वह व्यक्ति उत्तेजित होकर कहने लगा कि तू मुझे नहीं जानता मेरी गाड़ी में पहले पेट्रोल डाल नहीं तो पेट्रोल पम्प में इतने बम मारूंगा कि सब खत्म हो जायेगा, उसने मोटर सायकल में 110 रूपये का पेट्रोल डाल दिया उसके बाद वह व्यक्ति पेट्रोल पम्प से गाड़ी आगे बढ़ाकर गाली गलौज करते हुये चला गया।  दिनंाक 8-1-22 की रात लगभग 8-30 बजे वह डियूटी पर था शिवाजी ग्राउण्ड की तरफ से अज्ञात व्यक्ति ने एक बम पेट्रोल पम्प के तीनों मशीनों के बीच में फैंक दिया बम फूटने से तेज आवाज आयी और धुंआ फैल गया था कर्मचारियो ने दैाड़कर देखा तो अज्ञात व्यक्ति भाग गये थे। पेट्रोल पम्प के तीनेां मशीनों के बीच बम की रस्सी तथा छोटे छोटे पत्थर एवं कागज के टुकड़े बिखरे हुये थे।
            घटित हुई घटना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया, सूचना पर पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) के निर्देश पर नगर पुलिस अधीक्षक कैंट श्रीमति भावना मरावी एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर दक्षिण/अपराध श्री गोपाल खाण्डेल मौके पर पहुंचे।

वरिष्ठ अधिकारियों एवं एफ.एस.एल. टीम की उपस्थति में घटना स्थल का बारीकी से निरीक्षण करते हुये फुटे हुये बम के अवशेष जप्त करते हुये । अज्ञात आरोपी के विरूद्ध धारा 3, 4 विस्फोटक अधिनियम के तहत कार्यवाही करते हुये प्रकरण विवेचना में लिया गया।
पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा आरोपी की पतासाजी कर शीघ्र गिरफ्तारी हेतु आदेशित किये जाने पर थाना प्रभारी कैंट श्री विजय तिवारी के नेतृत्व मेें टीम गठित कर लगायी गयी। गठित टीम द्वारा घटना स्थल व आसपास के सीसीटीव्ही फुटेज खंगाले गये। मिले सीसीटीव्ही फुटेज के आधार पर ब्लू रेड कलर की एवेंजर मोटर सायकिल चालक के सम्बंध पतासाजी की गयी तो चालक का नाम सुनील ठाकुर निवासी रांझी का होना ज्ञात हुआ, टीम के द्वारा पतासाजी करते हुये सुनील उर्फ नाटी ठाकुर पिता अशोक ठाकुर (गौड़) उम्र 27 वर्ष निवासी रावण पार्क गण्ेाश गंज स्कूल के पीछे रांझी को अभिरक्षा मे लेकर पूछताछ की गयी तो अपने साथी अजीत कुमार बादशाह के साथ मिलकर घटना करना स्वीकार करते हुये बताया कि दिनॉक 6-1-22 को जयसवाल पैट्रोलपंप में पैट्रोल भरने वाले कर्मचारी से विवाद होने के कारण उसने अपनी साथी अजीत डुमार के साथ फटाका बाजार से रस्सी बम खरीद कर, रस्सी बम को खोलकर बारूद में सफेद पत्थर के टुकडे मिलाकर कागज में लपेटकर सुतली बम की रस्सी से कस कर, जायसवाल पैट्रोलपंप के कर्मचारियों को भयभीत करने के लिये बम फेंका था।
अजीत कुमार बादशाह सुक्रेल उम्र 29 वर्ष निवासी कटनी दफाई रांझी को सरगर्मी से तलाश कर अभिरक्षा में लेते हुये आरोपियों की निशादेही पर ब्लू रेड एवेंजर मोटर सायकिल एमपी 20 के एच 8055 एवं बम बनाने का शेष बची हुई सामाग्री हरे कलर की रस्सी, सफेद पत्थर के टुकडे, रस्सी बम के खाली गत्थे, पेपर के टुकडे जप्त करते हुये प्रकरण मे धारा 285, 286 भादवि का दोनो आरोपियो को प्रकरण में विधिवत गिरफ्तार किया गया है।
उल्लेखनी भूमिका – आरोपियों को पकडने में थाना प्रभारी कैंट श्री विजय तिवारी के नेतृत्व में उप निरीक्षक गनपत मस्कोले, प्रधान आरक्षक जय प्रकाश तिवारी, बंशीलाल , आरक्षक नरेन्द्र मौर्य, अंकेश कुमार, रामकृष्ण शर्मा, नरेश भलावी, मंगल सिंह, सचिन नामदेव, शक्ति सनोडिया, गौतम यादव एवं सायबर सेल की टीम की सराहनीय भूमिका रही।